बुधवार, 2 मार्च 2016

विश्व विख्यात व्यक्तित्व



विश्व विख्यात व्यक्तित्व



  • अब्दुल गफ्फार खान- 'फ्रंटियर गाँधीÓ के नाम से प्रसिद्ध; स्वतंत्रता संग्राम के दौरान 'नॉर्थ ईस्ट फ्रंटियर प्रॉविंसÓ के प्रमुख नेता। 'खुदाई खिदमतगारÓ नामक संगठन के संस्थापक।


  • अब्दुल रहीम खान-ए-खानं- अकबर के  सेनापति व नव रत्नों में से एक। प्रमुख मध्यकालीन भक्ति कवि।
  • अबुल फजल (1551-1602 ई.)- अकबर के प्रमुख सलाहकार व सरकारी इतिहासकार। उन्होंने 'आइने अकबरीÓ व 'अकबरनामाÓ लिखा।
  • अहिल्या बाई- इंदौर के महाराजा मल्हार राव होल्कर की विधवा बहू जिन्होंने 1764-1765 तक राज्य पर शासन किया।
  • अहमद शाह अब्दाली- अफगानिस्तान का शासक जिसने भारत पर सात बार आक्रमण किया, जिसमें 1761 में पानीपत के युद्ध में मराठों की पराजय प्रमुख है।
  • अजातशत्रु- विंबसार का पुत्र और मगध के हरयंका वंश का द्वितीय शासक।


  • अकबर (1542-1605 ई.)- मुगल साम्राज्य का महानतम शासक। उसने मुगल साम्राज्य का विस्तार किया और उसे मुख्य रूप से धार्मिक सहिष्णुता और राजपूतों के साथ मित्रतापूर्ण सम्बंधों के लिए जाना जाता है। उसने एक नए धार्मिक पंथ 'दीन-ए-इलाहीÓ की स्थापना की।
  • अल बरूनी (970-1039 ई.)- प्रसिद्ध लेखक जो महमूद गजनवी के साथ भारत आया और भारत पर विश्व प्रसिद्ध किताब 'किताब-उल-हिंदÓ लिखी।
  • अलाउद्दीन बहमन शाह- बहमनी राज्य के संस्थापक।
  • अलाउद्दीन खिलजी- दिल्ली सल्तनत का सबसे सक्षम शासक जिसने मूल्य नियंत्रण प्रणाली लागू की। इसके शासनकाल के दौरान दिल्ली सल्तनत का सबसे ज्यादा विस्तार हुआ।
  • अलबुकर्क (1453-1515 ई.)- भारत में पुर्तगाली वायसराय। 1510 ई. में उसने गोवा व दीव पर अधिकार जमाया।
  • अल्बर्ट आइंस्टीन (1879-1955 ई.)- न्यूटन के बाद महानतम् वैज्ञानिक। 1905 में 'क्वांटम सिद्धांतÓ का प्रयोग करके 'फोटो विद्युत प्रभावÓ की व्याख्या की। द्रव्यमान व ऊर्जा के मध्य सम्बंध स्थापित करने के लिए श्व=द्वष्२ समीकरण का प्रतिपादन किया। ब्राऊनियन गति की व्याख्या करके परमाणु सिद्धांत की पुष्टिï की। सापेक्षता के विशिष्टï सिद्धांत (Special Theory of relativity) का प्रतिपादन किया। 1916 में सापेक्षता के सामान्य सिद्धांत (General theory of relativity) का प्रकाशन। 1921 में नोबेल पुरस्कार।
  • एलेन ऑक्टोवियन ह्यूम (1829-1912 ई.)- ब्रिटिश सरकार में सिविल सर्र्वेंट जिन्होंने  भारतीय राष्टरीय कांग्रेस की स्थापना में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।
  • अमीर खुसरो (1255-1325 ई.)- इनको 'पैरेट ऑफ इंडियाÓ कहा जाता है। वे प्रसिद्ध साहित्यकार, इतिहासकार व संगीतज्ञ थे। सूफी संत हजरत निजामुद्दीन औलिया के शिष्य के रूप में प्रसिद्ध।
  • अर्दशीर- 226 ई. में ईरान में सस्सानिद वंश के संस्थापक।
  • अलेक्जेंडर ग्राहम बेल (1847-1922 ई.)- स्कॉटिश अमेरिकी, जिसने टेलीफोन का आविष्कार किया।
  • अरस्तू (384-322 ई. पू.)- ग्रीक दार्शनिक, साहित्यकार व वैज्ञानिक। सिकंदर महान के शिक्षक व प्लेटो के शिष्य। उन्होंने तर्कशास्त्र (Logic) की स्थापना की।
  • आर्यभट्ट (476-520 ई.)- भारतीय खगोलशास्त्री व गणितज्ञ जो चंद्रगुप्त विक्रमादित्य के नौ रत्नों में से एक थे। उन्हें बीजगणित (algebra) के आविष्कार का श्रेय है। वे पहले खगोलशास्त्री थे जिन्होंने  बताया कि पृथ्वी अपने अक्ष पर घूमती है।
  • अशोक महान (शासन 269-232 ई. पू.)- प्राचीन भारत का महानतम शासक। 261 ई. पू. में कलिंग युद्ध के पश्चात् उसने हिंसा का मार्ग छोड़कर बौद्ध धर्म अपना लिया।
  • अश्वघोष- कुषाण सम्राट कनिष्क के अध्यात्मिक गुरू, जिन्होंने प्रसिद्ध बौद्ध ग्रंथ 'बुद्धचरितम्' की रचना की।
  • अतातुर्क कमाल (1881-1938 ई.)- तुर्की जनरल व राजनीतिज्ञ। उन्होंने तुर्की में खिलाफत का अंत करके वहाँ गणतंत्र की स्थापना की और तुर्की को एक आधुनिक धर्मनिरपेक्ष देश के रूप में स्थापित किया।
  • आंद्रे मेरी एम्पियर (1775-1836 ई.)- फ्रांसीसी वैज्ञानिक जिसने एम्पियर के नियमों का प्रतिपादन किया। विद्युत धारा की इकाई का नामकरण इन्हीं पर किया गया है।
  • अलेक्जेंडर फ्लेमिंग (1881-1955 ई.)- स्कॉटिश वैज्ञानिक जिन्होंने प्रथम एंटीबायोटिक 'पेनीसिलिन' की खोज 1928 में की।
  • ऑर्थर कॉम्पटन (1892-1962 ई.)- अमेरिकी भौतिकविद् जिन्हें 1927 में 'कॉम्पटन प्रभाव' (Compton Effect) की खोज के लिए नोबेल पुरस्कार प्रदान किया गया। 'कॉम्पटन प्रभाव' से ही प्रकाश के द्विस्वभाव(Dual nature) की जानकारी हुई।
  • अर्नेस्ट रदरफोर्ड (1871-1937)- प्रसिद्ध भौतिकविद जिन्होंने परमाणु की संरचना की खोज की जिससे नाभिकीय युग (Nuclear Age) की शुरुआत हुई।
  • अल्फ्रेड नोबेल (1833-1896 ई.)- स्वीडिश रसायनविद व आविष्कारक। इन्होंने डाइनामाइट का आविष्कार किया और इन्हीं के नाम से चिकित्सा, साहित्य, अर्थशास्त्र, भौतिकी, रसायनशास्त्र और शांति के लिए प्रत्येक वर्ष नोबेल पुरस्कार प्रदान किया जाता है।
  • ऑगस्टस (63 ई. पू. - 14 ई.)- प्रथम रोमन सम्राट। उन्होंने मिस्र पर विजय प्राप्त की और रोम में नैतिक धार्मिक सुधारों को लागू किया।
  • आर्कमिडीज़ (287-212 ई. पू.)- ग्रीक के प्रसिद्ध गणितज्ञ जिनको 'उत्प्लावन के सिद्धांतों (Principle of buoyancy) के प्रतिपादन का श्रेय है।
  • इयूक्लिड (330-260 ई. पू.)- यूनान के प्रसिद्ध गणितज्ञ जिन्होंने ज्यामिति (geometry) में अनेक महत्वपूर्ण खोजें कीं।
  • एडविन पॉवेल हब्बल (1869-1953 ई.)- अमेरिकी खगोलविद जिन्होंने सबसे पहले ब्रह्मड के अकल्पनीय आकार की खोज की।
  • औरंगजेब- (1618-1707 ई.)- मुगल सम्राज्य का अंतिम महान सम्राट जिसने साम्राज्य का सुदूर दक्षिण तक विस्तार किया, किन्तु उसकी धार्मिक असहिष्णुता की नीति ने मुगल राज्य को धक्का पहुँचाया।
  • बाबर (1483-1530 ई.)- भारत में मुगल साम्राज्य का संस्थापक जिसने अप्रैल 1526 में पानीपत के युद्ध में इब्राहिम लोदी को परास्त किया। तुर्की में आत्मकथा 'तुजुक-ए-बाबरीÓ लिखी।
  • बाणभट्ट- हर्षवद्र्धन के दरबारी कवि। प्रसिद्ध कृति 'हर्षचरितÓ।
  • बाडेन पावेल (1857-1941 ई.) - बॉय स्काउट्स मूवमेंट के संस्थापक (1908 ई.)।
  • बालाजी विश्वनाथ- मराठा साम्राज्य के प्रथम पेशवा (1731 ई.)।
  • बलवन, गियास-उद्-दीन- दिल्ली सल्तनत के सुल्तान (1265-86)। उसने 'सजदाÓ व 'पाएबोसÓ जैसे तुर्की रिवाजों को अपने दरबार में लागू किया।
  • बिथोवन- विश्व के महानतम संगीतकारों व कम्पोजरों में से एक।
  • बेसंट, एनी (1846-1933 ई.)- आयरिश सामाजिक सुधारक, 1917 में भारतीय राष्टï्रीय काँग्रेस की प्रथम महिला अध्यक्ष। 1916 में होम रूम लीग की स्थापना की।
  • भीमराव अम्बेडकर (1891-1956 ई.)- दलितों के मसीहा। भारतीय संविधान के निर्माता जो 1947 से 1951 के मध्य भारत के कानून मंत्री रहे।
  • बिम्बसार (शासन 544-493 ई. पू.)- मगध राज्य के प्रथम महत्वपूर्ण राजा।
  • बिस्मार्क (1815-1898 ई.)- 19वीं शताब्दी में जर्मनी के सर्वाधिक सशक्त राजनीतिज्ञ जिन्होंने जर्मनी का एकीकरण करके उसकी स्थापना की।
  • बोस, सुभाषचंद्र (1897-1945 ई.)- इन्हें 'नेताजीÓ के उपनाम से जाना जाता है। वे एक शक्तिशाली राष्टï्रवादी नेता थे जो  भारतीय राष्ट्रीय काँग्रेस के अध्यक्ष भी रहे। द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान उन्होंने आजाद हिंद फौज की स्थापना करके अंग्रेजों से टक्कर ली।
  • भाभा, डा. होमी जे. (1909-1966 ई.)- भारत के ख्याति प्राप्त वैज्ञानिक। भारतीय अणु कार्यक्रम के जनक माने जाते हैं।
  • भगत सिंह- प्रसिद्ध क्रांतिकारी व विचारक जिन्हें लाहौर षडयंत्र केस में फांसी दी गई।
  • भास्कराचार्य (जन्म 1114 ई.) - प्रसिद्ध गणितज्ञ व खगोलशास्त्री। प्रसिद्ध कृति- सिद्धांत शिरोमणि।
  • बोस, नंद लाल- प्रसिद्ध भारतीय चित्रकार जिन्होंने  कई प्रसिद्ध पेंटिंग्स बनाईं।
  • बुद्ध, गौतम (523 ई. पू. -453 ई. पू.)- बौद्ध धर्म के संस्थापक गौतम बुद्ध का जन्म नेपाल के लुम्बिनी में हुआ था। वे कपिलवस्तु के राजा शुद्धोधन के पुत्र थे। उन्होंने संसार का त्याग किया और ज्ञान की प्राप्ति के बाद बुद्ध कहलाये।
  • सीज़र, जूलियस (100-44 ई. पू.)- रोमन जनरल व तानाशाह। उसने गाउल पर विजय प्राप्त की, राइन नदी पार करके ब्रिटेन पर दो बार आक्रमण किया।
  • चैतन्य (1485-1533 ई.)- कृष्ण भक्त संत जिन्होंने उड़ीसा, बंगाल व पूर्वी दक्कन में कृष्ण भक्ति का प्रचार-प्रसार किया।
  • चाणक्य (चौथी सदी ई. पू.)- चाणक्य को कौटिल्य के नाम से भी जाना जाता है। उनकी कृति 'अर्थशास्त्रÓ आज भी लोगों के मध्य प्रसिद्ध है। वह चंद्रगुप्त मौर्य के गुरू व प्रधानमंत्री थे। इनकी मौर्य वंश की स्थापना में महत्वपूर्ण भूमिका थी।
  • चंद्रगुप्त मौर्य (शासन 321-298 ई. पू.)- मौर्य साम्राज्य के संस्थापक। उन्होंने मौर्य साम्राज्य का अफगानिस्तान तक विस्तार किया। इनके शासनकाल के दौरान ग्रीक राजदूत मेगास्थनीज़ भारत आया था।
  • चंगेज खान (1162-1227 ई.) - मंगोल योद्धा जिसने मंगोल साम्राज्य को चीन, रूस के अधिकाँश भागों और पूर्व में काला सागर तक फैलाया। चंगेज खान का साम्राज्य अभी तक का सर्वाधिक विशाल साम्राज्य था।
  • चियांग काई शेक (1887-1975 ई.)- चीनी राजनीतिज्ञ जिन्हें चीन के एकीकरण का श्रेय दिया जाता है (1926-28 ई.)। बाद में राष्टï्रवादी सरकार का नेतृत्व किया। (1928-49 ई.)। 1949 ई. में चीनी क्रांति के बाद ताइवान में निर्वासित सरकार का नेतृत्व।
  • क्लाइव, रॉबर्ट (1725-1774 ई.)- भारत में ब्रिटिश साम्राज्य का संस्थापक। 1757 ई. में प्लासी की लड़ाई में बँगाल के शासक सिराजुद्दौला को परास्त करके  ब्रिटिश राज्य की नींव रखी।
  • कोलम्बस, क्रिस्टोफर (1451-1506 ई.)- इतावली भौगोलिक अन्वेषणकर्ता, जिन्होंने 1498 ई. में अमेरिका की खोज की।
  • कोपरनिकस, निकोलस (1473-1543 ई.) - पोलिश खगोलशास्त्री जिन्होंने प्रतिपादित किया कि पृथ्वी सहित सभी ग्रह सूर्य की परिक्रमा करते हैं।
  • साइरस- ईरान का महान शासक जिसने बेबीलोन को 539 ई. पू. में पराजित करके अपने साम्राज्य को एशिया माइनर (तुर्की) तक फैलाया।
  • दादा भाई नौरोजी (1825-1917 ई.)- 'ग्रैंड ओल्ड मैन ऑफ इंडियाÓ के नाम से विख्यात दादा भाई नौरोजी तीन बार भारतीय राष्ट्रीय काँग्रेस के अध्यक्ष रहे। ब्रिटिश हाउस ऑफ कॉमंस के लिए निर्वाचित होने वाले प्रथम भारतीय।
  • दारा शिकोह (1614-1659 ई.)- मुगल सम्राट शाहजहाँ का वरिष्ठï पुत्र जिसकी हत्या औरंगजेब ने करवाई थी। धार्मिक सहिष्णुता के लिए प्रसिद्ध दारा ने 'गीताÓ का फारसी में अनुवाद करवाया था।
  • दारा प्रथम (548-486 ई. पू.)- फारस के सम्राट। उन्होंने 490 ई. पू. में यूनान पर आक्रमण किया, किंतु मैराथन के मैदान में पराजित।
  • दयानंद सरस्वती (1824-1883 ई.)- इन्होंने 1875 में सामाजिक कुरीतियों को मिटाने के लिए 'आर्य समाजÓ की स्थापना की। वेदों के ईश्वरीय वाणी होने का समर्थन करते हुए उन्होंने 'सत्यार्थ प्रकाशÓ की रचना की।
  • डुप्ले (1697-1764 ई.)- भारत में फ्रांसीसी गवर्नर-जनरल जिसने अंग्रेजों के खिलाफ द्वितीय कर्नाटक युद्ध में विजय प्राप्त की।
  • एडविन लुटएंस- ब्रिटिश वास्तुकार जिसने नई दिल्ली का निर्माण किया।
  • आइजनहावर, ड्विट डेविड (1890-1969 ई.)- द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान मित्र सेनाओं के सर्वोच्च कमांडर। बाद में वे सं. रा. अमेरिका के 34 वें राष्ट्रपति बने।
  • एकनाथ- मध्यकालीन भक्ति आंदोलन के संत व कवि जिन्होंने मराठी भाषा के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने जातिप्रथा का कड़ा विरोध किया।
  • फाह्यान- चंद्रगुप्त विक्रमादित्य के समय में भारत आने वाला पहला चीनी यात्री। उसके लेखों को गुप्त काल का ऐतिहासिक प्रमाण माना जाता है।
  • फिरदौसी (930-1020 ई.)- फारसी भाषा के प्रसिद्ध कवि जिनकी कालजयी कृति 'शाहनामाÓ में प्राचीन फारस की गाथा गाई गई है।
  • फ्लोरेंस नाइटेंगल (1820-1910 ई.)- क्रीमिया युद्ध में घायल सैनिकों की सेवा हेतु संगठित प्रयास करने वाली प्रसिद्ध नर्स। इन्हें 'लेडी विद द लैम्पÓ के उपनाम से भी जाना जाता है।
  • गुरू गोबिंद सिंह (1666-1708 ई.)- सिक्खों के दसवें व अंतिम गुरू जिन्होंने खालसा पंथ की स्थापना की (आनंदपुर, 1699 ई.)। सिक्खों को एक लड़ाकू जाति के रूप में व्यवस्थित किया।
  • गाँधी, महात्मा (1869-1948 ई.)- बापू व राष्टï्रपिता के नाम से विख्यात महात्मा गाँधी को विश्व के महानतम व्यक्तियों में से एक माना जाता है। उन्होंने भारत को आजादी दिलाने के लिए सत्याग्रह व अहिंसा जैसे अभिनव अस्त्रों का प्रयोग किया। 30 जनवरी, 1948 को नाथूराम गोड़से ने उनकी हत्या कर दी।
  • गैरीबाल्डी (1807-1882 ई.)- इटली के एकीकरण में मुख्य भूमिका निभाई। इन्होंने मैजिनी के साथ मिलकर इटली में 'यंग इटलीÓ मूवमेंट चलाया।
  • गोपाला- बँगाल के पाल वंश के संस्थापक (750 ई.)।
  • गोविन्द- महानतम राष्ट्रकूट शासक जिसने प्रतिहार, चोल, पांड्य, गंगा व पल्लव को हराया।
  • गुरू नानक देव (1469-1538 ई.)- सिक्ख धर्म के संस्थापक और प्रथम गुरू। इनका जन्म नानकाना साहिब (पाकिस्तान) में हुआ था।
  • गुरू तेग बहादुर- ये सिक्खों के नौवें गुरू थे। 1675 ई. में औरंगजेब ने इनकी हत्या करवा दी थी।
  • कैप्टेन जेम्स कुक (1728-1779 ई.)- ब्रिटिश नौचालक जो अंटार्कटिक वृत्त दक्षिण की यात्रा करने वाले प्रथम मानव बने। उन्होंने प्रशांत महासागर की भी खोज की।
  • चार्ली चैपलिन (1889-1977 ई.)- इंग्लैण्ड में जन्में विश्वविख्यात अमेरिकी हास्य अभिनेता और निर्देशक। प्रमुख फिल्में- 'द ट्रैम्पÓ, 'द किडÓ, 'द गोल्ड रसÓ, 'द सर्कसÓ, 'सिटी लाइट्सÓ, 'द ग्रेट डिक्टेटरÓ, 'लाइमलाइटÓ।
  • चाल्र्स डार्विन (1809-1862 ई.)- महान जीव वैज्ञानिक, जिन्होंने दक्षिणी सागर के वन्य जीवन का गहरा अध्ययन करने के उपरांत अपनी पुस्तक 'द ओरीजिन ऑफ स्पीसीज़Ó की रचना की। उनके अनुसार मानव का विकास वानर समान पूर्वज से हुआ है।
  • चाल्र्स डिकेन्स (1812-1870 ई.)- विक्टोरियन इंग्लैंड के महानतम उपन्यासकारों में से एक। प्रसिद्ध उपन्यास 'ऑलिवर ट्विस्ट', 'ग्रेट एक्सपेक्टेशन्सÓ, 'डेविड कॉपरफील्डÓ आदि।
  • कन्फ्यूशियस (लगभग 551-479 ई. पू.)- चीनी दार्शनिक और राजनीतिक चिंतक, जिनके चिंतन का प्रभाव चीन में आधुनिक काल तक रहा।
  • कार्ल बेंज (1844-1929 ई.)- जर्मन इंजीनियर जिन्होंने 1895 ई. में आंतरिक दहन इंजन (Internal Combustion Engine) का आविष्कार किया।
  • एडवर्ड जेन्नेर (1749-1823 ई.)- अंग्रेज वैज्ञानिक जिसने चेचक (Small Pox) के टीके का आविष्कार किया।
  • गैब्रियल फारेनहाइट (1686-1736 ई.)- जर्मन-डच वैज्ञानिक जिन्होंने प्रथम मरकरी और फारेनहाइट थर्मामीटर का निर्माण किया।
  • गुग्लीमो मारकोनी (1874-1937 ई.)- इतालवी विद्युत इंजीनियर एवं रेडियो का आविष्कारक। 1909 ई. में उन्हें नोबेल पुरस्कार प्रदान किया गया।
  • गैलीलियो (1564-1642 ई.)- इतालवी खगोलविद् जिन्होंने शक्तिशाली दूरबीन का आविष्कार किया और बृहस्पति के उपग्रहों की खोज की। उन्होंने सूर्य-केन्द्रित कोपरनिकस सिद्धांत का समर्थन किया, जिसके फलस्वरूप उन्हें मृत्युदंड दिया गया।
  • ग्रेगर जोहन मेंडल (1822-1884 ई.)- ऑस्ट्रियाई वनस्पतिशास्त्री जिन्होंने अनुवांशिकता के  सिद्धांतों की खोज की।
  • गाट्टलिब डेमलर (1834-1900 ई.)- आंतरिक दहन इंजन के आविष्कारकर्ता जिन्होंने कार्ल बेंज के साथ संयुक्त रूप से डेमलर बेंज कम्पनी की स्थापना की।
  • जॉन डाल्टन (1766-1844 ई.)- अंग्रेज रसायनशास्त्री जिन्होंने परमाणु सिद्धांत का प्रतिपादन किया और परमाणु भारों (Atomic Energy) की आवर्त सारणी का प्रकाशन किया।
  • जॉर्ज वाशिंगटन (1732-1799 ई.)- अमेरिकी जनरल और प्रथम राष्ट्रपति (1789-92 ई.)। 1781 ई. में यॉर्कशायर में कॉर्नवालिस को पराजित किया जिससे अमेरिका को स्वतंत्रता मिली। 1789 ई. में अमेरिका के प्रथम राष्टï्रपति बने।
  • जॉन एफ. कैनेडी (1917-1963 ई.)- 35वें अमेरिकी राष्ट्रपति (1960-65)। इनके कार्यकाल में ही क्यूबा मिसाइल संकट पैदा हुआ (1962 ई.)। किंतु इनके कार्यकाल के दौरान ही 'आंशिक परमाणु प्रतिबंध संधिÓ पर हस्ताक्षर किए गए (1963 ई.)। 1963 में डलास में हत्या।
  • जॉन कैबो (1425 -1500 ई.)- इतालवी भौगोलिक अन्वेषणकर्ता और नौचालक। इंग्लैण्ड के शासक हेनरी सप्तम के प्रोत्साहन के अंतर्गत उत्तरी अमेरिकी की खोज की।
  • जॉर्ज बर्नार्ड शॉ (1856-1950 ई.)- आयरलैण्ड में जन्में नाटककार एवं आलोचक। प्रमुख नाटक 'सीज़र एण्ड क्लियोपेट्राÓ, 'मेजर बारबराÓ, 'पिग्मेलियॉनÓ इत्यादि।
  • जीसस क्राइस्ट (4 ई. पू.-30 ई.)- ईसाई धर्म के संस्थापक, बेथलेहम में जन्म, बाल्यावस्था नाजरेथ में बीती, जॉन द बैपटिस्ट के द्वारा बपतिस्मा। 30 ई. में जेरूशलम में आगमन, इनके शिष्य जुडास ने धोखा देकर उन्हें पकड़वाया। ईशनिंदा के आरोप में सूली पर चढ़ाए गए। अपनी मृत्यु के दो दिन बाद पुनर्जीवित हुए।
  • जेम्स वॉट (1736-1819 ई.)- स्कॉटलैण्ड के इंजीनियर जिन्होंने प्रथम बार वाष्प शक्ति का अवलोकन किया। इनके नाम पर ही शक्ति की एक मापन इकाई का नाम 'वाटÓ रखा गया।
  • जोसेफ प्रीस्टले (1733-1804 ई.)- अंग्रेज रसायनशास्त्री जिन्होंने ऑक्सीजन, अमोनिया, कार्बन मोनो ऑक्साइड, सल्फर डाईऑक्साइड, हाइड्रोजन सल्फाइड एवं नाइट्रोजन के ऑक्साइडों की खोज की।
  • जॉन मिल्टन (1608-1674 ई.)- इंग्लैण्ड के ख्याति प्राप्त महाकाव्य लेखक और कवि जो अंधे थे। इनके प्रसिद्ध महाकाव्य- 'पैराडाइज लॉस्ट' तथा 'पैराडाइज़ गेन्ड'।
  • जीन हेनरी डुनेन्ट (1509-1564 ई.)- स्विज़ समाजसेवी जिन्होंने रेडक्रॉस की स्थापना की (1864 ई.)। जिनेवा कन्वेंशन की स्थापना में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।
  • जस्टिनियन प्रथम (483-565 ई.)- 537 ई. से रोमन बाइजेन्टिनियाई सम्राट, जो अपने प्रशासनिक सुधारों के लिए प्रसिद्ध थे।
  • जोसे डि सैन मार्टिन (1778-1850 ई.)- अर्जेन्टीनियाई क्रांतिकारी जिन्होंने दक्षिणी अमेरिकी देशों को स्पेनी औपनिवेशवाद से मुक्त कराने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा की।  उनके प्रयासों से अर्जेन्टीना (1814-16 ई.), चिली (1817-18 ई.) और पेरू (1821 ई.) को स्वतंत्रता मिली।
  • जैकस कार्टियर (1491-1577 ई.)- फ्रांसीसी नौचालक जिन्होंने न्यूफाउंडलैंड (कनाडा) की खोज की।
  • जॉन डनलप (1840-1921 ई.)- स्कॉटलैंडवासी वैज्ञानिक जिन्होंने न्यूमेटिक टायर का आविष्कार किया।
  • जेम्स जूल (1818-1889 ई.)- इंग्लिश वैज्ञानिक जिन्होंने ऊष्मा के बारे में क्रांतिकारी नियम प्रतिपादित किए। 'ऊर्जा के संरक्षण का नियमÓ (Law of Conservation of energy) का प्रतिपादन उन्होंने ही किया। उन्हीं के नाम पर ऊर्जा की इकाई का नामकरण 'जूलÓ किया गया।
  • जोसेफ स्टालिन (1879-1953 ई.)- सोवियत संघ का निरंकुश शासक। 1922 ई. से सोवियत कम्युनिस्ट पार्टी के महासचिव और 1924 में सोवियत संघ के शासक। कम्युनिस्ट पार्टी में अपने विरोधियों की हत्या के दोषी। मित्र राष्ट्रों के ओर से द्वितीय विश्वयुद्ध में भाग लिया। जर्मन आक्रमण को निष्फल किया।


















सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


Responsive ad

Amazon