सोमवार, 1 अगस्त 2016

History GK

पारिभाषिक शब्द वेद का अर्थ है " ज्ञान" होता है | वैदिक साहित्य, आर्य और वैदिक काल के बारे में ज्ञान का सबसे महत्वपूर्ण स्रोत हैं | साहित्य की कई सदियों के दौरान वृद्धि हुई है और पीढ़ी दर पीढ़ी को मुंह के वचन द्वारा सौंपी गयी जिससे श्रुति भी कहा जाता है| यहाँ वैदिक साहित्य की सूची है जो यूपीएससी, एसएससी, सीडीएस, एनडीए, राज्य सेवाओं, और रेलवे आदि जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए बहुत महत्वपूर्ण है|.
वैदिक साहित्य की सूची
साहित्य
विवरण
ऋग्वेद
  • 1500-1000 ईसा पूर्व के आसपास संकलित  BC
  • 'रिग' का शाब्दिक अर्थ 'प्रशंसा करने के लिएहै
  • भजन का एक संग्रह
  • अध्यायों  को मंडल कहा जाता है
  • मंडल तृतीय में गायत्री मंत्र हैं  जो सूर्य देवता सावित्री की प्रशंसा में संकलित किया गया है।
  • नौवीं मंडल में भजन हैं जिसे पुरुषसूक्त कहा जाता है जहां वर्ण व्यवस्था पर चर्चा की है
  • ऋग्वेद में विशेषज्ञ ऋषि को होत्र या होत्री कहा जाता था
  • इसकी जेंद -अवेस्ता के साथ बहुत सी आम बातें है, जो ईरानी भाषा में सबसे पुराना पाठ हैं|
सामवेद
  • गीतों का संग्रह और बहुत से गाने ऋग्वेद के भजन से लिए गए है
  • सामवेद के विशेषज्ञ को उगत्री बोला जाता हैं
  • संकलन ने भारतीय संगीत की नींव रखी
यजुर्वेद
  • बलि फार्मूले का संग्रह
  • मंत्र का सस्वर पाठ के समय में अपनाई जाने वाली अनुष्ठान का वर्णन करता है।
  • अध्यर्यु यजुर्वेद के ज्ञान के विशेषज्ञ थे।
  • इसमें दोनों गद्य और कविता शामिल हैं
  • यह दो भागों में बांटा गया है - कृष्णा यजुर वेद और शुक्ला यजुर्वेद
अथर्ववेद
  • आकर्षण और मंत्र का संग्रह
  • इसमें रोगों से राहत पाने के लिए जादुई भजन होते है
  • भारतीय औषदि विज्ञान अर्थात आयुर्वेद का स्रोत अथर्ववेद से है
ब्राह्मण
  • वैदिक भजन, आवेदन पत्र, और उनके मूल की कहानियों के अर्थ के बारे में विवरण शामिल हैं
  • ऐतरेय या कौशिकति ब्राह्मण के ब्यौरा के लिए ऋग्वेद में आवंटित किए गए थे
  • तान्या और जमीनिया ब्राह्मण को सम वेद  में ब्योरे करने के लिए
  • ब्यौरा के लिए तैत्रीय और शतपथ ब्राह्मण यजुर्वेद के लिए
  • गोपथब्रह्म का ब्यौरा के लिए अथर्ववेद को
आरण्यकस
  • इसका मतलब है कि वन|
  • तपस्वी और वेदों के छात्रों के लिए जंगलों में लिखा है।
  • भौतिकवादी धर्म से आध्यात्मिक धर्म में एक बदलाव की शुरूआत की। इसलिए, वे एक परंपरा है जो उपनिषदों में गठित हो गयी
  • वे वेदों और उपनिषदों सह ब्राह्मणों के बीच एक पुल की तरह हैं|
उपनिषद
  • वैदिक साहित्य के अंतिम चरण
  • तत्वमीमांसा अर्थार्त दर्शनशास्त्र  में सौदा
  • इसको  वेदांता भी बुलाया जाता है
  • आत्माब्राह्मणपुनर्जन्म और कर् के सिद्धांत के बारे में विषय होते हैं
  • ज्ञान की राह पर बल देता है
  • उपनिषदों की शाब्दिक अर्थ 'पैरों के पास बैठने के लिए है'
  • महत्वपूर्ण उपनिषदों - चंडोज्ञ उपनिषदबृहदअरण्यक उपनिषद,कथा उपनिषदईशा उपनिषदपरसना उपनिषदमुंडका उपनिषदों
  • यम और नचिकेता की बातचीत या विषय वस्तु कथा उपनिषद है
  • राष्ट्रीय प्रतीक में सत्यमेव जयते मुंडका उपनिषद से लिया जाता है|
वेदनगस
  • वेदों के अंग के रूप में जाना जाता है
  • सूत्र अवधि के दौरान संकलित। इसलिए यह सूत्र साहित्य कहा जाता है, जिनकी संख्या छह हैं:
  1. शिक्षा उच्चारण के विज्ञान के फोनेटिक्स
  2. कल्प - रस्में और समारोहों
  3. व्याकरणव्याकरण
  4. निरुक्त - व्युत्पत्ति (शब्दों की उत्पत्ति)
  5. छन्द - मेट्रिक्स, काव्य रचना के नियम
  6. ज्योतिष्य - ज्योतिष-शास्र
























सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


Responsive ad

Amazon