शनिवार, 9 जुलाई 2016

Geography GK





कोपेन द्वारा किया गया विश्व जलवायु का वर्गीकरण सामान्यतः सरल व सबसे ज्यादा प्रभावी है। इसके जलवायु को वार्षिक और मासिक तापमान और वर्षण के आधार पर बांटा गया है| वर्गीकरण का आधार, तापमान व वर्षण का मासिक व वार्षिक मान/ स्थिति है। कोपेन ने पुरे विश्व के जलवायु को पांच भागों में बांटा है जो अंग्रेजी के पांच बड़े अक्षरों से इंगित किया जाता है, वे इस प्रकार से है:



A: उष्णआद्र जलवायु (Tropical Moist Climates) - वर्ष भर तापमान 18℃ से ज्यादा व लगभग सालों भर वर्षा.



B: शुष्क जलवायु (Dry Climates) - गर्म शुष्क जलवायु व सैलून भर नमी की कमी.



C: उष्ण आद्र समशीतोष्ण जलवायु (Moist Mid) - सामान्य शीत ऋतु वाली मध्य अक्षांशीय आद्र जलवायु.



D: मध्य अक्षांशीय शीत जलवायु (Moist Mid) - सबसे ठंढे महीने का औसत तापमान 3℃ से कम.



E: ध्रुवी जलवायु (Polar Climates) - ग्रीष्म ऋतु अनुपस्थित रहती है.



उष्णकटबंधीय आद्र जलवायु (Tropical Moist Climates)



उष्णकटिबंधीय आद्र जलवायु का विस्तार विषुवत रेखा के दोनों तरफ 15°से 25°अक्षांस के बीच है। इस जलवायु प्रदेश वाले भाग में पुरे साल प्रत्येक महीने का औसत तापमान 18℃से अधिक रहता है। वार्षिक वर्षा की मात्रा 1500 मिलीमीटर से अधिक रहती है।वर्षा,तापमान व शुष्कता के आधार पर इस जलवायु प्रदेश को तीन उपवर्गों में विभाजित किया है। यहाँ मासिक तापांतर 3℃ से अधिक नहीं हो पता है क्योंकि इस क्षेत्र में सूर्यताप की अधिक मात्रा प्राप्त होती है तथा दोपहर बाद कापसी व कापसीवर्षी बादल छा जाते है और मूसलाधार वर्षा होती है जिससे नमी बानी रहती है। दिन का तापमान सामान्यतः 32℃ व रात का तापमान 22℃ के आसपास होता है। जाड़े के समय में सवाना जलवायु का प्रभाव देखने को मिलता है। सवाना प्रदेश में ग्रीष्म काल में 1000 मिलीमीटर से अधिक वर्षा प्राप्त नहीं होती है। इस जलवायु प्रदेश में धरातल का 20% व महासागर का 40%भाग को घेरे हुए है।



शुष्क जलवायु (Dry Climates)



इस जलवायु की मुख्य विशेषता यह है कि वाष्पीकरण की तुलना में वर्षा बहुत ही कम होती है। इस प्रदेश का विस्तार 20°-35°उत्तरी अक्षांश के बीच है। जो कि महाद्वीप के बड़े हिस्से पर फैला है। यहाँ मध्य अक्षांश के लगभग चारों ओर पर्वतों की सीरीज पाई जाती है।तापमान व अधिकतम वर्षा के आधार पर दो प्रकार की जलवायु में बांटा गया है।


मरुस्थलीय जलवायु: इस जलवायु प्रदेश की मुख्य विशेषता है जल की कमी। यह कमी प्रभावी वर्षा के कारण होती है। सहारा,अरब,थार,दक्षिण-पश्चिम यूएसए व आस्ट्रेलिया में इसी प्रकार की जलवायु पायी जाती है। यहाँ मरुद्भिद् वनस्पति पायी जाती है। इसके अंदर लघु जलवायु क्षेत्र के लिए 'h' व 'k' अक्षर का प्रयोग किया जाता है। h जहाँ का औसत वार्षिक तापमान 18℃ से कम तथा k जहाँ का औसत तापमान 18℃ से कम हो।
स्टेपी जलवायु: यहाँ भी अल्प वर्षा होती है। वर्षा की वार्षिक मात्रा 30 सेंटीमीटर होती है।औसत वार्षिक तापमान 21℃ व तापांतर 13℃ होती है। इस प्रदेश में घासों की बहुलता है जो सम्पूर्ण धरातल का 14%भाग पर फैला है। इसके निम्न अक्षांशों वाले भाग में गर्मी मे वर्षा होती है जबकि इसके उच्च अक्षांशों में शीतकाल में वर्षा होती है।





आद्र शीतोष्ण कटिबंधीय जलवायु (Moist Subtropical Mid-Latitude Climates)



इस जलवायु प्रदेश में सामान्यतः ग्रीष्म ऋतु आद्र और शीत ऋतु मृदुल होती है। इसका विस्तार 30-50° अक्षांशों के मध्य महाद्वीप के दोनों किनारों पर है। ऋतुओं के अनुसार परिवर्तन बहुत ही स्पष्ट विशेषता है। शीतकाल में मध्य अक्षांशीय क्षेत्रों में चक्रवातों का प्रभाव रहता है। ग्रीष्मकाल में अधिकतम तापमान 10℃ से अधिक रहता है। इस जलवायु प्रदेश को तीन उपवर्गों में विभाजित किया गया है, भूमध्यसागरीय,चीनी तुल्य व पश्चिमी यूरोपीय जलवायु। भूमध्य सागरीय जलवायु दोनों गोलार्द्धों में 30° से 45° अक्षांशों के बीच महाद्वीप के पश्चिमी किनारों पर पायी जाती है।



इसका विस्तार भूमध्य सागर के तटवर्ती क्षेत्र,कैलिफोर्निया,पोर्टलैंड,ओरेगन,मध्य चिली,न्यूजीलैंड के उत्तरी द्वीप आदि क्षैत्रों में पायी जाती है। चीनी तुल्य जलवायु दोनों गोलार्द्धों में 25°से45° अक्षांशो के बीच महाद्वीपों के पूर्वी तटवर्ती क्षेत्रों में पायी जाती है।यहाँ सबसे उष्ण महीने का औसत तापमान 27℃ चला जाता है। रातें उमस भरी होती है। शीतकाल मृदुल होती है।



औसत वार्षिक वर्षा 100 सेंटीमीटर तक होती है।शीत ऋतु की तुलना में ग्रीष्म ऋतु में अधिक वर्षा होती है।पश्चिमी यूरोपीय तुल्य जलवायु 40°से65°अक्षांशों के बीच महाद्वीप के पश्चिमी तटीय भागों में पायी जाती है।गर्मी के महीनों में औसत तापमान 15℃ से 20℃ और शीत ऋतु में 4℃ से 10℃ के बीच रहता है।वार्षिक औसत वर्षा 140 सेंटीमीटर के लगभग होती है।



आद्र शीतोष्ण कटिबंधीय जलवायु (Moist Continental Mid-latitude Climates):



इस जलवायु का विस्तार केवल उत्तरी गोलार्द्ध में 50° से 70° अक्षांशों के बीच है। ठंडी और लंबी शीतऋतु व अधिक तापांतर इसकी विशेषता है।ग्रीष्म ऋतु छोटी व मृदुल होती है तापमान 10℃ से 15℃ के बीच रहता हैै और ठंड के महीने में तापमान -3℃ तक चला जाता है।इसे तीन उपवर्गों में बाटा गया है-टैगा जलवायु, पूर्वी समुद्रतटीय शीत जलवायु व महाद्वीपीय जलवायु।शीतकाल ध्रुवीय शीत वायु राशियाँ तेज गति से चलती है जिसमें हिम भरा होता है।





ध्रुवीय जलवायु (Polar Climates)



यह जलवायु 70° अक्षांश से ध्रुवों तक पायी जाती है। इस प्रदेश में उष्णतम महीने का तापमान 10℃ से अधिक नहीं हो पता है।यह उत्तरी ध्रुव के तटवर्ती क्षेत्र,उत्तरी अमेरिका,यूरोप,ग्रीनलैंड व एशिया के उत्तरी भगवन में फैला है। इसे दो उपवर्गों में बांटा गया है- टुण्ड्रा जलवायु व हिमाच्छादित प्रदेश की जलवायु। टुण्ड्रा प्रदेश में वार्षिक औसत तापमान -9℃ या इससे भी कम होने के कारण मृदा के अंदर का भाग स्थायी तुषार भूमि के रूप में जमा हो जाती है।


















सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


Responsive ad

Amazon