बुधवार, 15 जून 2016

WORLD GENERAL KNOWLEDGE









विश्व व्यापार संगठन : एक परिचय

विश्व व्यापार संगठन ( WTO ) : एक परिचय

विश्व व्यापार संगठन (WTO), अनेक देशों के बीच व्यापार के नियमों के सन्दर्भ में एक संगठन है जोकि उनके मध्य के अनेक व्यापारिक गठ्विधियों को अंजाम देने में न केवल मदद करता है बल्कि व्यापारिक कार्यक्रमों के संदर्भ में अनेक गतिविधीयों को अंजाम देता है।

यह विश्व के देशों के बीच एक व्यापार के सन्दर्भ में वैश्विक अंतरराष्ट्रीय संगठन है। यह समझौतों के माध्यम से अपनी व्यापरिक गतिविधियों को सम्पादित करता है जोकि इन्हीं देशों के सामूहिक हस्ताक्षर के द्वारा प्रकाश में आये हुए रहते हैं। इस संस्था में लागू किये जाने वाले क़ानून उन देशों की सांसदों में पारित किये हुए रहते हैं। इस संस्था का मूल उद्देश्य व्यवसायिक गतिविधियों को अंजाम देने.माल और सेवाओं के आयात करने, आयातकों और निर्यातकों को अनेक सुविधाएं देने आदि के सन्दर्भ में अनेक सुविधायें उपलब्ध कराता है।
विश्व व्यापार संगठन के कार्य : —
यह विश्व व्यापार समझौता एवं बहुपक्षीय तथा बहुवचनीय समझौतों के कार्यन्वयन,प्रशासन एवं परिचालन हेतु सुबिधाएं प्रदान करता है।
व्यापार और प्रशुल्क से सम्बंधित किसी भी भावी मसाले पर सदस्यों के बीच विचार-विमर्श हेतु एक मंच के रूप में कार्य करता हैं।
विवादों के निपटारे से सम्बंधित नियमों एवं प्रक्रियाओं को प्रशासित करता है।
वैश्विक आर्थिक निति निर्माण में अधिक सामंजस्य भाव लाने ले लिए अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष एवं विश्व वैंक से सहयोग करता है।

** विश्व व्यापार संगठन की सदस्यता और मुख्यालय : —

विश्व व्यापार संगठन ( वर्ल्ड ट्रेड आर्गेनाइजेशन ) विश्व की सबसे प्रमुख मौद्रिक संस्था है जो विश्व व्यापार के लिये दिशा निर्देशों को जारी करती है और सदस्य देशों को जरुरत के मुताबिक ॠण उपलब्ध कराती है। यह नए व्यापार समझौतों में बदलाव और उन्हें लागू कराने के लिए उत्तरदायी है। भारत भी इसका एक सदस्य देश है।

डब्ल्यूटीओ में 160 सदस्य हैं। चीन इसमें 2001 में शामिल हुआ था. डब्ल्यूटीओ की सबसे बड़ी संस्था मंत्रिस्तरीय सम्मेलन ( मिनिस्ट्रयल कॉन्फ्रेंस ) है।

यह प्रत्येक दो वर्ष में अन्य कार्यों के साथ संस्था के महासचिव और मुख्य प्रबंधकर्ता का चुनाव करती है। साथ ही वह सामान्य परिषद (जनरल काउंसिल) का काम भी देखती है. सामान्य परिषद विभिन्न देशों के राजनयिकों से मिल कर बनती है जो प्रतिदिन के कामों को देखता है। डब्लयूटीओ का मुख्यालय जेनेवा, स्विट्जरलैंड में है।

अब तक इसके छह मंत्रिस्तरीय सम्मेलन (मिनिस्ट्रियल कॉन्फ्रेंस) हो चुके हैं।
प्रथम विश्वयुद्ध ( First world war )

प्रथम विश्वयुद्ध का प्रारम्भ 28 जुलाई 1914 को हुआ यह लभग 5 वर्षों तक चला और इसमे 37 देशों ने हिस्सा लिया था।

प्रथम विश्वयुद्ध में विश्व दो भागो में बंट गया : –
धुरी राष्ट्र: – इसमे जर्मनी, आस्ट्रिया, हंगरी और इटली थे। धुरी राष्ट्रों का नेतृत्व जर्मनी ने किया था। आस्ट्रिया, जर्मनी और इटली के बीच गुट का निर्माण 1882 में हो चूका था।
मित्र राष्ट्र: – इसमे जापान, संयुक्त राज्य अमेरिका, रूस, फ्रांस और इंग्लैंड थे।

आस्ट्रिया के राजकुमार फर्डीनेंट की बोस्निया की राजधानी सेराजेओ में हत्या कर दी गई — यही प्रथम विश्व युद्ध का तात्कालिक कारण था।

प्रथम विश्वयुद्ध में जर्मनी ने 1 अगस्त 1914 को रूस पर आक्रमण किया।

जर्मनी ने ही फ्रांस पर आक्रमण 3 अगस्त 1914 को किया। जर्मनी की यु-बोट द्वारा इंग्लैंड के लुसितानिया नामक जहाज को डूबा दिया गया उसमे कुल 1153 व्यक्ति मारे गए। उसमे से 128 व्यक्ति अमेरिकी थे। इसी कारण 6 अप्रेल 1917 को अमेरिका प्रथम विश्व युद्ध में शामिल हुआ। प्रथम विश्वयुद्ध के समय अमेरिका के राष्ट्रपति वुडरो विल्सन थे।

18 जून 1919 में पेरिस में एक शांति सम्मलेन का आयोजन किया गया जिसमे 27 देश भाग ले रहे थे परन्तु इस शांति सम्मलेन की शर्ते सिर्फ 3 देश अमेरिका, फ्रांस औए इंग्लैंड तय कर रहे थे। उस समय अमेरिका के राष्ट्रपति वुडरो विल्सन, फ्रांस के प्रधानमंत्री जॉर्ज क्लेमेसो और इंग्लैंड के प्रधानमंत्री लायड जॉर्ज थे।

वर्साय की सन्धि 28 जून 1919 को जर्मनी से हुई जिसमे जर्मनी से युद्ध के हर्जाने के रूप में 6 अरब 50 करोड़ पौंड राशि की मांग रखी गई। इसी वर्साय की सन्धि में द्वितीय विश्व युद्ध का बीज छुपा हुआ था।
द्वितीय विश्व युद्ध ( 2nd world war )

द्वितीय विश्व युद्ध का प्रारम्भ 1 सितम्बर 1939 हुआ। इसमे 61 देशों ने भाग लिया और यह 6 वर्षों तक चला।

यह 2 सितम्बर 1945 को समाप्त हो गया।

जर्मनी ने वर्साय की संधि का उल्लंघन 1935 में किया में किया और द्वितीय विश्व युद्ध का तात्कालिक कारण जर्मनी द्वारा पोलैंड पर आक्रमण करना था।

इटली और जर्मनी ने संयुक्त रूप से पहला आक्रमण स्पेन पर किया।

ऑपरेशन बारबोसा का सम्बन्ध द्वितीय विश्व युद्ध में जर्मनी द्वारा सोवियत संघ पर आक्रमण करने की एक योजना से है।

द्वितीय विश्व युद्ध के समय अमेरिका का राष्ट्रपति फ्रेंकलिन डी. रूजवेल्ट थे और इंग्लैंड के प्रधानमंत्री विंस्टन चर्चिल थे।

द्वितीय विश्व युद्ध में मित्र राष्ट्रों ने सबसे अंत में जापान को हराया ,

अमेरिका ने जापान पर 6 अगस्त 1945 को परमाणु बम गिराये। हिरोशिमा पर ” फैटमैन ” और नागासाकी शहर पर ” लिटल बॉय ” गिराया जो लगभग 100 मेगावाट का था।

द्वितीय विश्वयुद्ध की सम्पति के बाद संयुक्त राष्ट्र संघ का गठन किया गया।
अंतर्राष्ट्रीय दिवस (International Days)
विश्व कैंसर दिवस कब मनाया जाता है – 4 फरवरी
विश्व रेडियो दिवस कब मनाया जाता है – 13 फरवरी
अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस कब मनाया जाता है – 8 मार्च
विश्व वन्य जीवन दिवस कब मनाया जाता है – 3 मार्च
अंतर्राष्ट्रीय वन दिवस कब मनाया जाता है – 21 मार्च
विश्व जल दिवस कब मनाया जाता है – 22 मार्च
विश्व स्वास्थ्य दिवस कब मनाया जाता है – 7 अप्रैल
विश्व मलेरिया दिवस कब मनाया जाता है – 25 अप्रैल
विश्व रक्तदान दिवस कब मनाया जाता है – 14 जून
विश्व समुद्र दिवस कब मनाया जाता है – 8 जून
विश्व शरणार्थी दिवस कब मनाया जाता है – 20 जून
विश्व पर्यावरण दिवस कब मनाया जाता है – 5 जून
अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस कब मनाया जाता है – 21 जून
विश्व जनसँख्या दिवस कब मनाया जाता है – 11 जुलाई
विश्व हेपेटाइटिस दिवस कब मनाया जाता है – 28 जुलाई
विश्व मित्रता दिवस कब मनाया जाता है – 30 जुलाई
अंतर्राष्ट्रीय युवा दिवस कब मनाया जाता है – 12 अगस्त
अंतर्राष्ट्रीय जनतंत्र दिवस कब मनाया जाता है – 15 सितम्बर
विश्व पर्यटन दिवस कब मनाया जाता है – 27 सितम्बर
अंतर्राष्ट्रीय शांति दिवस कब मनाया जाता है – 21 सितम्बर
विश्व शिक्षक दिवस कब मनाया जाता है – 5 अक्टूबर
विश्व खाद्य दिवस कब मनाया जाता है – 16 अक्टूबर
विश्व टेलीविज़न दिवस कब मनाया जाता है – 21 नवम्बर
विश्व मानवाधिकार दिवस कब मनाया जाता है – 10 दिसम्बर
विश्व एड्स दिवस कब मनाया जाता है – 1 दिसम्बर
चक्रवातों के नाम
चक्रवात (Cyclone) —— हिन्द महासागर
हरीकेन (Hurricane)—– कैरिबियन द्वीप समूह
टायफून (Typhoon) —– दक्षिण चीन सागर
विली-विलीज (Willy-Willies)— आस्ट्रेलिया
टॉरनेडो (Tornadoes) —- तटीय अमेरिका
ट्विस्टर (Twister) ——- स्थलीय अमेरिका
पुनर्जागरण ( Renaissa ) नवयुग

पुनर्जागरण का प्रारम्भ फ्लोरेंस नगर ( इटली ) से माना जाता है।

इटली के महान कवि दाँते को पुनर्जागरण का दूत माना जाता है। इनका जन्म 1260 ई में और मृत्यु 1321 ई में हुई थी।

दाँते ने तत्कालीन प्रचलित लैटिन भाषा को छोड़कर बोलचाल की भाषा ‘ टस्कन ‘ भाषा में ” डिवाइन कॉमेडी ” नामक पुस्तक की रचना की जिसमे उन्होंने अपनी स्वर्ग और नरक की काल्पनिक यात्रा का वर्णन किया।

आधुनिक विश्व का प्रथम राजनीतिज्ञ होने का श्रेय ‘ मैकियावेली ‘ को जाता है जो भी इटली के निवासी थे।

‘ द लास्ट सपर ‘ और ‘ मोनालिसा ‘ सबसे चर्चित चित्र है जिनके रचनाकार ” लियानार्डो द विन्ची ” थे।

मार्टिन लूथर ने बाइबिल का जर्मन भाषा में अनुवाद किया।

धर्म सुधार आंदोलन का जनक भी मार्टिन लूथर ही था जो की जर्मनी का ही निवासी था।

अमेरिका की खोज कोलंबस ने की।

अमेरिगो वेस्पुसी के नाम पर अमेरिका का नामकरण हुआ जो इटली का निवासी था।

प्रशांत महासागर का नामकरण मैगलन ( स्पेन ) ने किया था। मैगलन ने ही समुद्री मार्ग से सम्पूर्ण विश्व का चक्कर लगाया था।
नदियों के किनारों पर बसे प्रमुख नगर
नई दिल्ली और आगरा ————— यमुना नदी
बर्लिन ————- स्ट्री नदी
हरिद्वार ———- गंगा नदी
बुडापेस्ट ————- डेन्यूब नदी
कानपुर ————- गंगानदी
काहिरा ———– नील नदी
नासिक ———— गोदावरी नदी
करांची ————- सिन्धु नदी
उज्जैन ———— क्षिप्रा नदी
लन्दन ———– टेम्स नदी
श्रीनगर — ——- झेलम नदी
लाहौर ———— रावी नदी
इलाहाबाद ———– गंगा-यमुना
न्यूयार्क ———- हडसन नदी
अहमदाबाद ———– साबरमती
पेरिस ———- सीन नदी
कोलकात्ता ———– हुगली
रोम ——- टाईबर नदी
गुवाहाटी ——– ब्रह्मपुत्र
शंघाई ——– यांगटिसिक्यांग
जबलपुर ——– नर्मदा
टोकियो ———- सुमीदा नदी
सूरत ——- ताप्ती
विएना और बेलग्रेड ——– डेन्यूब नदी
हैदराबाद ——-मूसी
वारसा ——- विस्तुला नगोमत
मास्को ————- मोस्कवा नदी
कोलम्बो ———– केलानी नदी
बगदाद ———– टिगरिस नदी
प्रमुख अंतर्राष्ट्रीय संगठन और मुख्यालय
यूनिसेफ – न्यूयॉर्क
यूनेस्को – पेरिस
विश्व बैंक – वाशिंगटन डी. सी.
एशियाई विकास बैंक – मनीला
नाटो – ब्रुसेल्स
एमनेस्टी इंटरनेशनल – लंदन
अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष – वाशिंगटन डी. सी.
रेडक्रॉस – जेनेवा
सार्क – काठमाण्डु
इंटरपोल – पेरिस(लेओंस)
विश्व व्यापार संगठन – जेनेवा
अमरीकी राज्यों का संगठन (OAS) – वाशिंगटन डी. सी.
अरब लीग – काहिरा
परस्पर आर्थिक सहायता परिषद् – मास्को
वर्ल्ड काउंसिल ऑफ़ चर्चेज – जेनेवा
यूरोपीय ऊर्जा आयोग – जेनेवा
अफ़्रीकी आर्थिक आयोग – आदिस-अबाबा
पश्चिमी एशिया आर्थिक आयोग – बगदाद



















सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


Responsive ad

Amazon