मंगलवार, 1 मार्च 2016

GENERAL KNOWLEDGE




काफी समय पहले की बात है ।उस समय जापान विकसीत देशो में शामिल नही था ।उस समय जापान मे ट्रेनो की हालात भी काफि खस्ता थी ।
एक भारतीय भी उस ट्रेन में सफर कर रहा था । ट्रेन की सीट टुटी हुई थी ।एक जापानी नागरिक भी उस ट्रेन में सफर कर रहा था ।
जापानी नागरिक ने अपनी बैग में से सूई धागा नीकाला और सीट की सीलाई करने लगा ।
भारतीय नागरिक ने पुछा, "क्यां आप रेल्वे के कर्मचारी है? उसने कहा, " ना , मैं एक शिक्षक हूं । मैं ईस ट्रेन से हररोज अप- डाउन करता हूं । ईस सीट की खस्ता हालत देख बाजार से सुई धागा खरीद लाया हुं । सोचा हर रोज ईस सीट को देखकर मुजे महेसुस होता था की अगर कोई विदेशी नागरिक ईसे देखेगा तो मेरे देश कीतनी बेईज्जती होगी एसा सोच के सीट रिपेर (सिलाई) कर रहा हूं ।"
सलाम उस देश के शिक्षक को देश की ईज्जत अपनी ईज्जत समजता हो । और वो ही जापान आज ईतना विकसीत हो गया है की हम उससे बुलेट ट्रेन खरीद रहे है ।
बाकी ट्रक के पीछे "मेरा भारत महान" लीख देने से कोई देश महान नही बन जाता ।






















सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


Responsive ad

Amazon