शुक्रवार, 29 जनवरी 2016

आइये जानें भारत विश्व गुरू क्यों था?

आइये जानें भारत विश्व गुरू क्यों था?
,
१.शतरंज के खेल की खोज भारत मे हुई
थी।
२.भारत ने अपने इतिहास में किसी
भी देश पर कब्जा नहीं किया।
३.अमरिका के जेमोलोजिकल संस्थान के अनुसार1896 तक
भारत ही केवल हीरो का स्त्रोत
था।
४.भारत 17वीं सदी तक
धरती पर सबसे अमीर देश था
इसलिए यह सोने की चीड़िया
कहलाता था।
५.भारत में हीं संख्या पद्धति का आविष्कार
हुआ और आर्यभट्ट ने शून्य की कल्पना
की।
६.नाविक विद्दा की खोज 6000 पूर्व भारत में
सिन्ध नदी में हुई थी।
७.विश्व का पहला विश्वविद्दालय तक्षशिला700
बीसी में भारत में स्थापित किया गया
था।
८.संस्कृत सभी भाषाओं की
जननी है।
९.भास्कराचार्य ने पृथ्वी द्वारा सूर्य का ग्रह
पथ का समय ३६५.२५८७५६४८४ दिन पांचवी
शताब्दी में हि दिया था यानी न्यूटन
के दादा के जन्म से पहले।
१०.आयुर्वेद का जन्म भारत में हुआ।
११.अर्थशास्त्र का जन्म भारत में चाण्क्य के द्वारा।
१२. विश्व का सबसे पुराना पुस्तक "वेद" भारत मे।
१३.मानव जाती का विकाश भारत में।
१४. सभ्यता संस्कृति का विकाश भारत में।
१५.विज्ञान का विकाश भारत में।
१६.वायुयान का आविष्कार शिवकरवापूजी तलपड़े
ने 1895 में किया था।
१७. पायथागोरस परिमेय का सुत्र उपनिषदों में पाया गया है।
१८.बैटरी निर्माण बिधि का आविष्का रसर्वप्रथम
महर्षि अगस्त्य ने किया था (अगस्त्य संहिता ) बेंजामिन
फ्रेंक्लिनके जन्म से पहले
१९.सबसे पहले व्याकरण की रचना भारत में
महर्षि पाणिनी द्वारा
२०.लोकतंत्र का जन्म भारत मे...
२१.सबसे पुराना शहर काशी (भारत)
२२.प्लास्टिक सर्जरी का आविष्कारकऋषि
सुश्रुत भारत में

Responsive ad

Amazon