बुधवार, 13 जनवरी 2016

भारतीय इतिहास के प्रमुख युद्ध..

भारतीय इतिहास के प्रमुख युद्ध

हाइडेस्पीस का युध्द (326 ई.पू.) :- यूनान के आक्रमणकारी शासक सिकंदर और पंजाब के राजा पुरु के बीच झेलम नदी के तट पर लड़ा गया जिसमे पुरु पराजित हुए लेकिन सिकंदर ने उसकी वीरता से प्रभावित हो आगे बढ़ने से इन्कार कर दिया और वापस लौट गया .
कलिंग युध्द (261 ई.पू.):- मौर्य शासक अशोक और कलिंग (उड़ीसा) के राजा के बीच हुआ लेकिन युध्द में मारे गए लोगों को देखकर अशोक का ह्रदय परिवर्तन हुआ और उसने कभी भी युध्द न करने का प्रण कर बौध्द धर्म अपना लिया.
तराइन का प्रथम युध्द (1191ई.) :- मोहम्मद गौरी और पृथ्वीराज चौहान के बीच हुआ जिसमे पृथ्वीराज ने गौरी को पराजित किया था.
तराइन का द्वितीय युध्द (1192ई.):- मोहम्मद गौरी और पृथ्वीराज चौहान के बीच हुआ जिसमे पृथ्वीराज को को पराजित कर गौरी ने भारत में मुस्लिम राज्य की स्थापना की.
पानीपत का प्रथम युध्द (1526):- आक्रमणकारी मुग़ल शासक बाबर और दिल्ली के सुल्तान इब्राहीम लोधी के बीच हुआ जिसमे बाबर ने विजय प्राप्त कर मुग़ल वंश की नीवं भारत में रखी.
खानवा का युध्द (1527) :- मेवाड़ के राणा सांगा और बाबर के बीच हुआ जिसमे बाबर ने सांगा को हराया. राजपूत राज्य कमजोर हुआ.
पानीपत का द्वितीय युध्द (1556) :- अकबर के सेनापति बैरम खान और हिन्दू शासक हेमू के बीच हुआ जिसमें हेमू पराजित हो गया.
हल्दीघाटी का युध्द (1576) :- राणा प्रताप द्वारा अकबर का आधिपत्य न स्वीकारने के कारण हुआ जिसमे राणा प्रताप ने बहादुरी से युध्द किया लेकिन अंततः परास्त हो गया.
प्लासी का युध्द (1757):- बंगाल के नवाब सिराजुद्दौला और अंग्रेज सेनापति क्लाइब के बीच हुआ जिसमे मीर जाफर और रायदुर्लभ के असहयोग के चलते सिराजुदौला हार गया. भारत में अंग्रेजी शासन की नीवं रखी.
वांडीवाश का युध्द (1760) :- दक्षिण भारत मे फ़्रांसिसी एवं अंग्रेजों के बीच हुआ जिसमे फ़्रांसिसी पराजित हो गए और भारत में उनका शासन समाप्त हो गया.
पानीपत का तृतीय युध्द (1761) :- अहमद शाह अब्दाली ने मराठों को पराजित किया और इससे भारत में मराठा शक्ति क्षीण हो गयी.
बक्सर का युध्द (1764) :- अंग्रेजों ने मीर कासिम (बंगाल का नवाब), शुजाउद्दौला (अवध का नवाब) एवं शाह आलम-II की संयुक्त सेना को पराजित किया और भारत में सर्वशक्तिशाली हो गए.

Responsive ad

Amazon