शनिवार, 30 जनवरी 2016

दिल्ली सल्तनत के प्रमुख वंश एवं शासक

दिल्ली सल्तनत के प्रमुख वंश  एवं शासक 

गुलाम वंश के शासक
शासनकाल
कुतुबुद्दीन ऐबक1206 -1210
आरामशाह1210
इल्तुतमिस1210 - 1236
रुकनुद्दीन1236
रजिया1236 - 1240
बहरामशाह1240 - 1242
मसूदशाह1242 - 1246
नसीरुद्दीन महमूद1246 - 1266
ग्यासुद्दीन बलबन1266 - 1287
कैकुबाद1287 - 1290

गुलाम वंश के महत्वपूर्ण तथ्य

  • गुलाम वंश का संस्थापक कुतुबुद्दीन ऐबक था, वह मोहम्मद गौरी का गुलाम था।
  • कुतुबुद्दीन ऐबक को उसकी उदारता के लिए लाख बख्श ( लाखो दान करने वाला ) कहा जाता था ।
  • कुतुबमीनार का निर्माण कुतुबुद्दीन ऐबक ने सूफी संत 'शेख ख्वाजा कुतुबुद्दीन बख्तियार काकी' की याद में प्रारंभ कराया था जिसे बाद में इल्तुतमिस ने पूर्ण कराया।
  • कुतुबुद्दीन ऐबक ने अजमेर में अढाई दिन का झोपडा नामक मस्जिद का निर्माण कराया था।
  • कुतुबुद्दीन ऐबक की मृत्यु चोगम खेलते समय घोड़े से गिरने से हुई थी।
  • इल्तुतमिस ने अपनी राजधानी लाहौर से दिल्ली स्थानांतरित किया।
  • इल्तुतमिस ने कुतुबमीनार की ऊपर की दो मंजिल का निर्माण पूर्ण कराया था।
  • इल्तुतमिस ने 40 गुलाम सरदारों का संगठन बनाया था जिसे 'तुर्कान-ए-चिहलगानी' कहा गया।
  • रजिया दिल्ली की के सिंहासन पर बैठने वाली पहली महिला सुल्तान थी।
  • रजिया सुल्तान का विवाह अल्तुनिया से हुआ था।
  • नसीरुद्दीन मुहम्मद ऐसा सुल्तान था जो अपनी रोजी रोटी कुरान की नकल करके बेचकर एवं टोपी सीकर चलाता है।
  • ग्यासुद्दीन बलवन दिल्ली सल्तनत का क्रूर शासक था उससे अपने विरोधियों के साथ 'लोह एवं रक्त' की नीति अपनाई।
  • बलवन ने सिजदा प्रथा ( झुककर नमस्कार ) एवं पाबौस प्रथा ( सुल्तान के पांव छूना ) प्रारंभ किया। तथा फारसी परम्परा का'नवरोज उत्सव' आरंभ किया।
खिलजी वंश के शासक
शासनकाल
जलालुद्दीन फिरोज खिलजी1290-1296
अलाउद्दीन खिलजी1296- 1316
कुतुबुद्दीन मुबारक शाह1316- 1320
नासिरुद्दीन खुसरो शाह1320

ख़िलजी वंश के महत्वपूर्ण तथ्य

  • गुलाम वंश के अंतिम शासक को मारकर जलालुद्दीन फिरोज खिलजी ने खिलजी वंश की स्थापना की।
  • फिरोज खिलजी की हत्या उसके भतीजे व दमाद अलाउद्दीन खिलजी ने की।
  • अलाउद्दीन खिलजी ने अपनी सफलता से प्रोत्साहित होकर 'सिकंदर - ए - सानी' या सिकंदर द्वितीय की उपाधि धारण कर लिया था।
  • अलाउद्दीन खिलजी द्वारा जजिया कर ( गैर मुस्लिम से ), जकात कर ( धार्मिक कर सम्पत्ति का 40 वा हिस्सा ) एवं आवास और चराईं कर भी लिया जाता था।
  • अलाउद्दीन ने बाजार नियंत्रण के लिए दीवान- ए-रियासत नामक अधिकारी नियुक्त किया।
  • अलाउद्दीन खिलजी की मृत्यु के बाद मलिक काफूर नामक हिजडे ने 6 वर्षीय बालक शहाबुद्दीन उमर को गद्दी पर बैठाया।
  • मलिक काफूर ने सत्ता के लालच में शहावुद्दीन को अंधा करवा कर स्वयं शासन करने लगा ।
  • मलिक काफूर सत्ता का सुख मात्र 35 दिन तक ही भोग सका,  मुबारक शाह खिलजी ने उसकी हत्या करवा दिया।
  • कुतुबुद्दीन मुबारक शाह सुल्तान बनने के बाद आलस्य, विलासिता, वासना आदि दुर्गुणों का शिकार हो गया।
  • मुबारक शाह नग्न स्त्री पुरुष के साथ दरबार में आता था एवं कभी कभी स्वयं नग्न होकर दरबार में दौड़ता था।
  • खुसरो शाह हिन्दू धर्म परिवर्तित करके मुसलमान बना था तथा उसने स्वयं 'पैगंबर का सेनापति' की उपाधि धारण की।
  • गाजी मलिक तुगलक ने खुसरो को युद्ध में परास्त कर तुगलक वंश की स्थापना की।
तुगलक वंश के शासक
शासनकाल
ग्यासुद्दीन तुगलक शाह1320 - 1325
मुहम्मद बिन तुगलक1325- 1351
फिरोज तुगलक1351- 1388
ग्यासुद्दीन तुगलक द्वितीय1388 - 1389
अबू वक्र1389
नसीरुद्दीन मुहम्मद शाह1390 - 1394
अलाउद्दीन सिकंदर शाह1394
नसीरुद्दीन महमूदशाह1394 - 1414

तुगलक वंश के महत्वपूर्ण तथ्य

  • तुगलक वंश के संस्थापक ग्यासुद्दीन तुगलक ने अपने नाम के साथ गाजी ( काफिरों का धातक ) शब्द का प्रयोग किया था।
  • ग्यासुद्दीन तुगलक ने सिंचाई के लिए कुंओं व नहरों का निर्माण करवाया। संभवतः यह पहला सुल्तान था जिसने नहरों का निर्माण कराया।
  • ग्यासुद्दीन तुगलक की मृत्यु के बाद उसका पुत्र जौना खां मुहम्मद बिन तुगलक गद्दी पर बैठा।
  • मुहम्मद बिन तुगलक दिल्ली के सभी सुल्तानो मे सबसे ज्यादा शिक्षित तथा विद्वान था।
  • मुहम्मद बिन तुगलक ने शासन चलाने के विभिन्न विवादास्पद नीतियों बनाईं जो असफल रही।
  • मुहम्मद बिन तुगलक की प्रमुख असफल नीतियां - 1. दोआब क्षेत्र में कर की वृद्धि, 2.राजधानी परिवर्तन दिल्ली से देवगिरी, 3.सांकेतिक मुद्रा का प्रचलन, 4. खुरासान एवं कराचिल का अभियान।
  • मुहम्मद बिन तुगलक के काल में ही हरिहर एवं बुक्का नामक दो भाइयों ने विजयनगर साम्राज्य की स्थापना की थी।
  • अफ्रिकी यात्री इब्नबतूता मुहम्मद बिन तुगलक के काल में भारत आया था।
  • मुहम्मद बिन तुगलक की मृत्यु पर इतिहासकार बदायूनी ने लिखा - 'राजा को अपनी प्रजा से और प्रजा को अपने राजा से मुक्ति मिल गई'।
  • फिरोजशाह तुगलक ने अपने शासन काल में 24 कष्टदायक करों को समाप्त कर केवल चार कर खराच ( लगान ) , खुम्स ( युद्ध में लूट का माल ) , जजिया , जकात वसूल किए।
  • फिरोजशाह तुगलक ब्राह्मणों पर भी जजिया कर लगाने वाला पहला सुल्तान था ।
  • फिरोजशाह तुगलक ने खिज्राबाद ( टोपरा ) एवं मेरठ से अशोक स्तंभ को लाकर दिल्ली में स्थापित कराया।
  • फिरोजशाह तुगलक ने जाजनगर ( उड़ीसा ) के शासक भानुदेव को हराया तथा जगन्नाथ मंदिर को ध्वस्त किया ।
  • फिरोजशाह ने नगरकोट स्थित ज्वालामुखी मंदिर को ध्वस्त कर 1300 ग्रंथों लूटकर कुछ का फारसी अनुवाद करवाया जिसे दलायते - फिरोजशाही नाम दिया।
  • फिरोजशाह तुगलक ने अपनी आत्मकथा 'फतूहात -ए - फिरोजशाही' लिखी थी।
  • तुगलक वंश का अंतिम शासक नसीरुद्दीन महमूद शाह था
  • नसीरुद्दीन महमूद शाह शासन काल में तैमूरलंग ने दिल्ली में आक्रमण किया था।
सैय्यद वंश के शासक
शासनकाल
खिज्र खां1414- 1421
मुबारक खां1421- 1434
मुहम्मद शाह1434- 1445
अलाउद्दीन आलमशाह1445 - 1450

सैय्यद वंश के महत्वपूर्ण तथ्य 

  • सैय्यद वंश का संस्थापक खिज्र खां ने सुल्तान की उपाधि ग्रहण नहीं की वह 'रैयत- ए - आला' के नाम से संतुष्ट रहा।
  • खिज्र खां की मृत्यु के बाद उसका पुत्र मुबारक खां गद्दी पर बैठा तथा शाह उपाधि धारण की।
  • मुबारक शाह के दरबार में प्रसिद्ध लेखक सरहिन्दी था जिसने 'तारीख - ए - मुबारक शाही' लिखी थी।
  • यमुना के तट पर मुबारक शाह ने मुबारकबाद नामक एक नगर बसाया था।
लोदी वंश के शासक
शासनकाल
बहलोल लोदी1451 - 1489
सिकंदर लोदी1489 - 1517
इब्राहिम लोदी1517 - 1526

लोदी वंश के महत्वपूर्ण तथ्य

  • बहलोल लोदी दिल्ली की गद्दी पर बैठने वाला पहला अफगान शासक था। उसने 'बहलोल शाह गाजी' नामक उपाधि धारण की।
  • बहलोल लोदी का पुत्र निजाम खां 'सुल्तान सिकंदर शाह लोदी' उपाधि के साथ गद्दी पर बैठा।
  • सिकंदर लोदी ने 1504 ई. में आगरा शहर की स्थापना की तथा उसे अपनी राजधानी बनाया।
  • सिकंदर शाह लोदी द्वारा माप का एक पैमाना ' गज-ए-सिकंदरी' प्रचलित कराया।
  • सिकंदर लोदी ने ज्वालामुखी मंदिर की मूर्तियों तुडवाकर कसाइयों को मांस तौलने के लिए दे दिया था।
  • सिकंदर लोदी के आदेश पर संस्कृत ग्रंथ ' आयुर्वेद ' का फारसी अनुवाद ' फरहंगे - सिकंदरी ' नाम से किया गया।
  • गले के कैंसर से सिकंदर लोदी की मृत्यु होने के बाद उसका पुत्र इब्राहिम लोदी गद्दी पर बैठा।
  • इब्राहिम लोदी के चाचा आलम खां तथा पंजाब के शासक दौलत खां लोदी ने काबुल के शासक बाबर को दिल्ली पर आक्रमण का निमंत्रण दिया था
  • बाबर और इब्राहिम लोदी के बीच 21 अप्रैल 1526 में पानीपथ का प्रथम युद्ध हुआ जिसमें इब्राहिम लोदी बुरी तरह हार गया
  • इब्राहिम लोदी उसी युद्ध में मारा गया और दिल्ली के सल्तनत काल का अंत हो गया।
  • बाबर ने इब्राहिम लोदी को मारकर दिल्ली में मुगल साम्राज्य की स्थापना की।

Responsive ad

Amazon